First blog post

Sticky

This is your very first post. Click the Edit link to modify or delete it, or start a new post. If you like, use this post to tell readers why you started this blog and what you plan to do with it.

post

Advertisements

Some interesting facts about India

Standard

1. Auroville – It is an experimental town in India which is located at Tamil Nadu and Puducherry. It is a universal town where people of any country can live peacefully.

2. North Sentinel Island- This Island is located in Southern Andaman. People of this island are among the last people to remain virtually untouched by modern civilization.

3. India has more people using Internet than population of USA.

4. India has lowest rate of divorce in the world.

5. Ladakh is a cold desert.

6. In India, many brides use Bhichiya as a toe ring.

7. The dispute of New Moore island between India and Bangladesh has been solved because of Global Warming.

8. In India it is very common to consume marijuana in milk.

9. World’s most polluted city is New Delhi.

10. People in Mattur village in Karnataka speak Sanskrit.

11. 70% of all the world spices come from India.

12. A man with 39 wives and 94 children lives in India and has the largest Family in the World.

13. The village of Shanishingnapur has no doors.

14. Taj Mahal’s white marble has turned yellow slowly over the period of time because of increasing pollution.

15. World’s largest Sundial is located in Jaipur, Rajasthan.

16. V.Kamaraj a Bus Driver was struck dead by Meteorite, rarest death reason in modern history.

tanvi seth/Shadia Anas Siddiqui case

Standard

USELESS DRAMA & VICTIM CARDS :

The Lady in this pic is Mrs. TANVI SETH aka SADIA.

She applied for Passport; and when she found that It will take her a lot of time and effort to verify the documents , she played the Religion and/or FEMALE card to get her work done.

Her complaints & Review –

1.] She complained that the Passport Officer was communal.

Officer Mr. Vikas Mishra said – “I am not a communal person. I have an inter-caste marriage myself. I agree that the marriage document was not required for passport, but because the document was shown to me, it was my duty to get it endorsed”.

2.] The officer, she said, spoke to her “in a very humiliating manner”. “A lot of people were staring at me because that officer was very loud. I was in tears.”

While According to eye witnessess, officer was calm and composed and was just trying to explain the rules. Mr.Mishra was at C-1 while the lady was forcing officers at C-5 Counter to do her work without verifying.

This is something not new in India. We have seen such cases like this- Zaira Wasim one, where people play Religion and/or Feminism Card to satisfy their evil demands.

What’s wrong with India is we get biased and let ourselves flow with emotions. Had Mishra’s view been seen before acting, it would have cleared the argument. Such irresponsible acts from Indian citizens prevent our officials to work unbiasdly and promotes corruption.

“What if she gets another Passport with another name? What if she commits a crime? What if everyone gets inspired and do the same? What if other too demand Passport in person rather than by Postal service?”

Hope truth is revealed soon & India imposes strict action and laws for false allegations -_-

Reality of Islamic philosophy

Standard

Philosophy is free thinking and open inquiry and study of the fundamental nature of knowledge, reality and existence using reason and logic.

A “revealed” religion is by definition a closed system. There are certain propositions that are given and are absolutely unquestionable.

For example –

  1. Allah.
  2. The Soul
  3. The Prophet and the previous prophets
  4. The status of the Quran
  5. Eschatology
  6. The superiority of Islam and the Ummah

“Philosophy” in a revealed system such as Islam would be the convoluted justification of these given “Facts” using a limited logic.

One cannot question, impugn, doubt or reject any of the “Revealed” propositions as that would bring down the accusation of Takfirand the very real possibility of losing one’s head (to coin a phrase!!).

So Philosophy under such circumstances would be treading a very fine line between Islam and Takfir. So Revealed religions such as Judaism, Christianity and Islam have Theologies not Philosophies. There have been Jewish, Islamic and Christian scholars doing philosophy.

Hinduism and Buddhism are the only two major religions which are grounded in philosophy.

How did untouchables start?

Standard

“Untouchables” or aspṛśya in Sanskrit are those people who technically work in highly unhygienic jobs – i.e. sanitary workers and those that work with dead bodies of humans and animals or deal with any effluence from the human body.

Thousands of years ago before the discovery of bacteria, observation established that certain people who worked in highly contaminated and toxic environments had an immunity to certain diseases but could act as vectors (transmitters). So these unfortunate folks were excluded from social contact which primarily meant dealing with food, entering people’s homes and generally “hanging out.”

They were assigned a place outside the village and could only enter the village on “business” i.e. to remove carcasses of dead animals which they then took away and processed – i.e. making leather for shoes, processing the bones etc and including eating them.

By the way even doctors were considered “untouchable” because to test for diabetes they had to taste the urine of the patient! So doctors were not to be found on guest lists. Nurses are in almost every survey done in the west, among the most respected of all professions – ranking even higher than doctors and lawyers (understandably so in the latter case!) – but from a caste hierarchy perspective are “untouchable” because they deal with sickness and death and the effluent of patients. In caste-ridden society this problem was solved by having the “jemedars” actually deal with the personal hygiene of the patients while the nurses administered medications.

It is also important to note that even those Brahmins who perform funeral ceremonies (mahāpātras) are considered as “untouchable” by all castes even the untouchables themselves! This is why there is a division between those priests who perform auspicious ceremonies (weddings, births, house-blessings etc.) and those that deal with cremations and Shrāddhas. Orthodox Brahmins would never invite a funeral priest to perform their daughter’s wedding!

Although untouchables are at the bottom of the social hierarchy they can be at the top of the power hierarchy. Take for example the Doms of Varanasi — they are a caste which has the monopoly of the cremation industry and as such are immensely powerful. The Dom Rājā used to be a very wealthy and powerful man! Even Brahmins treat him with the utmost respect and deference since the fire for cremations has to come from his hearth only. There are many cases in the past in which untouchables in a village, because of their narrowly focused profession would go on strike for a slight insult and hold the whole village to ransom.

Most of Hindu customs regarding food and water and eating and drinking are based on sound hygienic principles – in the Dharma Shastras there are rules for cooks about bathing and washing hands before food preparation, covering of the mouth, clipping nails and shaving heads and beards etc. Even Sudras are permitted to work in kitchens as long as they are supervised regarding the rules of hygiene. Most Hindus would know about never drinking water from the same cup that someone else lips have touched or eating food that is left-over (ucchiṣṭa/jhūṭa/ecchil) — all basic hygiene.

What I find interesting is that in “caste-ridden” India handshaking is becoming more and more popular! And as we all know, hand-hygiene, or rather lack thereof is one of the greatest means of transmitting disease!! I find myself constantly offending people by refusing to shake their hands! What happened to the old anjali/namaste – which still obtains in the rest of Asia.

It is important to note that any form of discrimination against others on the basis of their profession, socio-economic background or caste is wrong. This is an answer to the question of how untouchability began and not a justification for its continuation.

जगन्नाथ जी का आर्यसमाज विषयक प्रेरणादायक संस्मरण’

Standard

‘प्रसिद्ध राजनीतिज्ञ बलराज मधोक के पिता श्री जगन्नाथ जी का आर्यसमाज विषयक प्रेरणादायक संस्मरण’

प्रोफेसर बलराज मधोक के पिता का नाम श्री जगन्नाथ था। आप क्षत्रिय वर्ण के थे। आप आर्यसमाज, हजूरीबाग, श्रीनगर, कश्मीर के मंत्री रहे। देश की आजादी से पूर्व जिन दिनों आप युवा थे, आपने नौकरी के लिए डाकतार विभाग में इंस्पैक्टर के पद पर नियुक्ति के लिए आवेदन किया था। इस पद की लिखित परीक्षा में आप सफल हो गये थे और अब एक साक्षात्कार के बाद सफल होने पर आपको यह पद मिलना था। आपको साक्षात्कार के लिए बुलाया गया। आपका साक्षात्कार एक अंग्रेज अधिकारी ने लिया। साक्षात्कार में उसने आप से पूछा कि आप किस महापुरूष और ग्रन्थ को अपना आदर्श मानते हैं और आपकी विचारधारा क्या है? श्री जगन्नाथ जी ने स्पष्ट शब्दों में कहा कि मैं ऋषि दयानन्द जी और उनके ग्रन्थ सत्यार्थ प्रकाश को मानता हूं और मेरी विचारधारा आर्यसमाजी है।
आपका यह उत्तर सुनकर अंग्रेज अधिकारी ने सर्वथा योग्य होते हुए भी आपका चयन नहीं किया। कारण आपको अंग्रेज अधिकारी के व्यवहार से ज्ञात हो चुका था। यह कारण आपका ऋषि दयानन्द का अनुयायी होना और सत्यार्थ प्रकाश का अध्ययन करना था। कारण का ज्ञान होने पर श्री जगन्नाथ जी ने निर्णय किया कि उन्हें जीवन में सरकारी नौकरी नहीं करनी है। यह संस्मरण श्री बलराज मधोक ने अपनी आत्मकथा में दिया है। आर्यों ने देश, धर्म और जाति की रक्षा के लिए अनगिनत बलिदान दिए। यह इतिहासिक सत्य है।

हम आशा करते हैं कि आर्यसमाज के लिए अपना जीवन दांव पर लगाने वाले श्री जगन्नाथ जी को आर्यसमाजी बन्धु सादर श्रद्धापूर्वक स्मरण करेगें और इस प्रभावपूर्ण घटना का प्रचार करेंगे।

(धन्य है देव दयानन्द जिनके बताये मार्ग पर चलने के लिए सच्चे आया सदा तत्पर रहते है। )

तेजोमहालय शिव मन्दिर है :ताजमहल

Standard

वेद ऋषि, ऋषियों के ग्रंथों को प्रचारक-प्रसारक तो है ही साथ ही वैदिकधर्मियों और भारत के सत्य इतिहास की पुस्तकों का भी प्रचार करता है। लोगो तक उनका सत्य इतिहास पहुँचे इसी कडी में आप vedrishi.com से पुरूषोत्तम नागेश ओक द्वारा लिखित निम्न पुस्तके उचित मूल्य पर घर बैठे मंगा सकते है।

आगरे का लाल किला हिन्दू भवन है – इस पुस्तक में लेखक ने अनेकों अकाट्य प्रमाणों से सिद्ध किया है कि लाल किला शाहजहाँ द्वारा बनवाया गया नहीं बल्कि हिन्दू राजाओं द्वारा बनवाया गया लाल कोट नामक प्रसाद भवन है।
ताजमहल तेजोमहालय शिव मन्दिर है – ताजमहल का शाहजहाँ द्वारा बनवाए जाने की सभी काल्पनिक कथाओं का लेखक ने इसमें खंडन किया है, तथा चित्रों द्वारा यह सिद्ध किया है कि क्यों ताजमहल शिवमन्दिर है।
भारतीय इतिहासकारों की भयंकर भूलें – भारत का अधिकांश इतिहास विदेशियों और उनके उच्छिष्ट भोगी वामपंथियों द्वारा लिखा गया है जिसमें झुठे सेकुलरवाद को बढावा दिया गया है तथा भारतीय महापुरुषों की काल गणना में भी कई त्रुटियाँ जानबूझ कर की है। इस पुस्तक द्वारा लेखक ने इनका भंडाफोड़ किया है तथा इतिहास पुनर्लेखन की माँग को उठाया है।
भारत में मुस्लिम सुल्तान – इस पुस्तक में लेखक ने मुस्लिम आक्रमणकारियों की उदारवादिता की काल्पनिक कहानियों को खोजपूर्ण प्रमाणों द्वारा गलत साबित किया है। लेखक ने इन सुल्तानों की जिहादी प्रवृत्ति, धोखेबाजी आदि को उजागर किया है।
फतेहपुर सीकरी एक हिंदू नगर – इस पुस्तक में लेखक ने वास्तु प्रमाणों ओर ऐतिहासिक अनेकों साक्ष्यों द्वारा फतेहपुर सीकरी को हिन्दू नगर सिद्ध किया है।
कौन कहता है अकबर महान था – पुस्तक में अकबर का वास्तविक चेहरा दिखाया है। अकबर की छद्मवादिता, कामप्रवृत्ति का लेखक ने शोधपूर्ण दृश्य दिखाया है।
विश्व इतिहास के विलुप्त अध्याय – सम्पूर्ण विश्व में वैदिक हिन्दू संस्कृति ही थी इस तथ्य को अनेकों साक्ष्यों से सिद्ध किया है।
इन सबके अलावा लेखक द्वारा रचित निम्न पुस्तकें हास्यास्पद अंग्रेजी भाषा, वैदिक विश्व राष्ट्र का इतिहास, लखनऊ के इमामबाडे हिन्दू भवन है, क्रिश्चियनिटी कृष्ण-नीति है इत्यादि आप आसानी से निम्न वेबसाईट vedrishi.com के द्वारा घर बै़ठे मंगवा सकते है।

https://www.vedrishi.com/book/पुरूषोत्तम-नागेश-ओक-पुस्/

नास्तिकों के तर्कों की समीक्षा

Standard

🔥 ओ३म् 🔥

प्रश्न 1. जब संसार बिना बनाये वाले के बन जाता है (बिना ईश्वर के) तो कुम्हार के बिना घड़ा और चित्रकार के बिना चित्र भी बन जाना चाहिए ?

प्रश्न 2. जब ईश्वर नाम की कोई चीज नहीं तो जड़ प्रकृति कैसे गतिशील होगी? हमने देखा है कि जो भी प्रकृति से बनी अर्थात् भौतिक वस्तुएँ हैं, उनको अगर मनुष्य गति न दे तो वे एक जगह ही स्थिर रहती हैं। नास्तिकों के अनुसार जब प्रकृति चेतनवत् कार्य करती है (क्योंकि नास्तिकों की दृष्टि में ईश्वर नाम की कोई वस्तु नहीं और प्रकृति ही चेतनवत् कार्य करती है) तो प्रकृति से बनी भौतिक वस्तुओं को भी चेतनवत् कार्य करना चाहिए। अर्थात् कुर्सी को अपने आप चलकर बैठनेवाले के पास जाना चाहिए, भरी हुई या खाली बाल्टी को स्वयं चलकर यथास्थान जाना चाहिए। नल से अपने आप पानी निकलना चाहिए, साइकिल को अपने आप बिना मनुष्य के चलाये चलना चाहिए; लेकिन हम देखते हैं कि बिना मनुष्य के गति दिये कोई भी भौतिक पदार्थ स्वयं गति नहीं करता। फिर प्रकृति चेतन कैसे हुई?

प्रश्न 3. जब ईश्वर नाम की कोई सत्ता नहीं तो फिर कर्मों का भी कोई महत्त्व नहीं रह जाता, चाहे कोई अच्छे कर्म करे या बुरे, उसको कोई फल नहीं मिलेगा, वह आजाद है। क्योंकि ईश्वर कर्मफल प्रदाता है लेकिन नास्तिकों के अनुसार ईश्वर है ही नहीं तो फिर जड़ प्रकृति में इतनी सामर्थ्य नहीं कि किसी व्यक्ति को उसके कर्मों का अच्छा या बुरा फल दे सके। इस पर नास्तिक कहते हैं कि जो व्यक्ति दुःख या सुख भोग रहे हैं, वे स्वभाव से भोग रहे हैं। लेकिन यह बात तर्कसंगत नहीं क्योंकि यदि स्वभाव से दुःख, सुख भोगते तो या तो केवल दुःख ही भोगते या सुख; दोनों नहीं क्योंकि स्वभाव बदलता नहीं। और दूसरी बात यह है कि फिर कर्मों का कोई महत्त्व नहीं रह जाता। फिर व्यक्ति चाहे अच्छे कर्म करे या बुरे; उनका कोई फल नहीं मिलेगा क्योंकि सुख-दुःख स्वभाव से हैं।

प्रश्न 4. जब नास्तिकों की दृष्टि में ईश्वर नहीं है तो फिर उनको कर्मों के फल का भी कोई डर नहीं रहेगा, चाहे कोई कितने ही पाप करें, कितनी ही दुष्टता करें; किसी का डर ही नहीं। क्योंकि जिसका डर था उसी को वे मानते नहीं और प्रकृति कर्मों के फल दे नहीं सकती।

प्रश्न 5. जब व्यक्ति पाप-कर्म (चोरी, जारी आदि) करता है तो उसके अन्तःकरण में भय, शङ्का, लज्जा आदि उत्पन्न होते हैं, ये ईश्वर की प्रेरणा से उत्पन्न होते हैं; इससे भी ईश्वर की सिद्धि होती है। क्योंकि प्रकृति जड़त्व के कारण इन विचारों को मनुष्य के अन्तःकरण में करने में असमर्थ है। क्योंकि ये भाव मनुष्य के अन्दर तभी उजागर होते हैं, जब वह पाप-कर्म करना आरम्भ करता है। इससे सिद्ध होता है कि परमात्मा ही उसके अन्दर ये भाव उजागर करता है। जिससे मनुष्य पाप-कर्म करने से बच जाये। फिर नास्तिक ईश्वर की मान्यता कैसे स्वीकार नहीं करते?

प्रश्न 6 जब किसी नास्तिक पर बड़ी आपत्ति या दुःख (रोगादि या अन्य) आता है तो हमने देखा है कि बड़े से बड़ा नास्तिक भी ईश्वर की सत्ता स्वीकार करने को विवश हो जाता है और ईश्वर के प्रति श्रद्धा रखते हुए कहता है कि―”हे ईश्वर! अब तो मेरे दुःख को दूर कर दो, मैंने कौन से बुरे कर्म किये हैं, जिनके कारण मुझे ये दुःख मिला है।” जब नास्तिक ईश्वर को मानता ही नहीं तो दुःख के समय उसे ईश्वर और अपने बुरे कर्म क्यों याद आते हैं। पं० गुरुदत्त विद्यार्थी बड़े नास्तिक थे लेकिन स्वामी दयानन्द की मृत्यु के समय उन्हें भी ईश्वर की याद आई और पक्के आस्तिक बन गये। फिर नास्तिक क्यों ईश्वर को न मानने का ढोल पीटते हैं ? केवल दिखावे के लिए, जबकि परोक्ष रुप से वे ईश्वर की सत्ता स्वीकार करते हैं।

प्रश्न 7. जब नास्तिकों से प्रश्न किया जाता है कि मृत्यु को क्यों नहीं रोक लेते हो, तो वे कहते हैं कि “टी.वी. क्यों खराब होती है, जैसे टी.वी. यन्त्रों का बना है ऐसे ही शरीर कोशिकाओं का बना है।” ठीक है कौशिकाओं का बना है तो जब टी.वी. के यन्त्र बदलकर उसको सही कर देते हो तो मृत्यु होने पर शरीर के भी यन्त्र बदल दिया करो। जब टी.वी. खराब हुआ चल जाता है तो शरीर भी तो उसके यन्त्र बदलकर चलाया जा सकता है। लेकिन नहीं, बड़े से बड़ा वैज्ञानिक भी मृत्यु के बाद शरीर को चला नहीं सकता। क्यों? क्योंकि यह ईश्वर का कार्य है, जब टी.वी. आदि भौतिक चीजें खराब होने पर उनके यन्त्र, पुर्जे आदि बदलने पर चल जाता है तो शरीर भी उसके कोशिकाओं को बदलने पर चल जाना चाहिए? क्या कोई वैज्ञानिक शरीर के अन्दर की मशीनरी बना सकता है या प्रकृति मृत्यु के समय शरीर को ठीक क्यों नहीं करती, जब प्रकृति से बना शरीर है तो उसको प्रकृति को ठीक कर देना चाहिए (क्योंकि नास्तिकों के अनुसार प्रकृति ही गर्भ के अन्दर शरीर का निर्माण भी करती है, ईश्वर नहीं करता अर्थात् प्रकृति चेतनवत् कार्य करती है), फिर उस शरीर को अग्नि में क्यों जलाया जाता है? न प्रकृति उसको चला सकती, न वैज्ञानिक फिर नास्तिक क्यों प्रकृति और वैज्ञानिकों की रट लगाते हैं? जबकि सत्य यह है कि शरीर की मृत्यु ‘आत्मा और शरीर का वियोग होना’ है। इस सत्यता को नास्तिक क्यों नहीं स्वीकार करते?

प्रश्न 8. नास्तिक कहते हैं कि ज्ञान-विज्ञान वेदों में नहीं है, प्रत्युत् वैज्ञानिकों ने ही समस्त विज्ञान की रचना की है। मैं नास्तिकों से पूछता हूँ कि प्राचीन काल में ऋषि-मुनि एक से बढ़कर एक आविष्कार करते थे। ऋषि विश्वामित्र ने श्रीराम व लक्ष्मण को ब्रह्मास्त्र जैसे अनेक अस्त्र-शस्त्रों की शिक्षा दी थी। और उनका अनुसन्धान ऋषि-मुनि करते थे। क्योंकि उनके पास वेदों का ज्ञान-विज्ञान था। नास्तिक वैज्ञानिकों की दुहाई देते हैं, उस समय वैज्ञानिक नहीं थे, उस समय ऋषि-मुनि ही बड़े-बड़े आविष्कार करते थे। ऋषि-मुनि ही उस समय बड़े वैज्ञानिक थे। एक से एक विमान बनाते थे। रावण के पास ऐसा पुष्पक विमान था जो विधवाओं को अपने ऊपर नहीं बिठा सकता था अर्थात् विधवा औरत अगर उस पर विमान पर बैठ जाये तो वह उड़ नहीं सकता था। यह सब विवरण रामायण में ‘त्रिजटा व सीता संवाद’ में है; जिसका उसके स्वामी जगदीश्वरानन्द सरस्वती ने वाल्मीकि रामायण के भाष्य में किया है। पूरा विवरण इस प्रकार है―”जब युद्ध हो रहा था तो रावण के पुत्र इन्द्रजित् ने अदृश्य होकर सर्प के समान भीषण बाणों से, शरबन्ध से बाँध दिया और उनको मूर्छित कर दिया और हंसता हुआ अपने राजमहल में आया। रावण ने त्रिजटा-सहित सभी राक्षसियों को अपने पास बुलाया और कहा कि तुम जाकर सीता से कहो कि इन्द्रजित् ने राम और लक्ष्मण को युद्ध में मार डाला है, फिर उसे पुष्पक विमान में बैठाकर रण भूमि में मरे हुए उन दोनों भाइयों को दिखाओ। जिसके बल के गर्व से गर्वित होकर मुझे कुछ नहीं समझती उसका पति भाई सहित युद्ध में मारा गया। दुष्टात्मा रावण के इन वचनों को सुनकर और “बहुत अच्छा” कहकर वे राक्षसियाँ वहाँ गई जहाँ पुष्पक-विमान रखा था।
तत्पश्चात् त्रिजटा-सहित सीता को पुष्पक विमान में बैठा वे राक्षसी सीता को राम-लक्ष्मण का दर्शन कराने के लिए ले चलीं।
उन दोनों वीर भाइयों को शरशय्या पर बेहोश पड़े देखकर सीता अत्यन्त दु:खी हो, उच्च स्वर से बहुत देर तक विलाप करती रही।तब विलाप करती हुई सीता से त्रिजटा राक्षसी ने कहा―तुम दु:खी मत होओ। तुम्हारे पति मरे नहीं, जीवित हैं। हे देवी ! मैं अपने कथन के समर्थन में तुम्हें स्पष्ट और पूर्व-अनुभूत कारण बतलाती हूँ जिससे तुम्हें निश्चय हो जायेगा कि राम-लक्ष्मण जीवित हैं।―
इदं विमानं वैदेहि पुष्पकं नाम नामत: ।
दिव्यं त्वां धारयेन्नैवं यद्येतौ गतजीवितौ ।।
―(वा० रा०,युद्ध का०,सर्ग २८)
भावार्थ―हे वैदेहि ! यदि ये दोनों भाई मर गये होते तो यह दिव्य पुष्पक-विमान तुम्हें बैठाकर नहीं उड़ाता (क्योंकि यह विधवाओं को अपने ऊपर नहीं चढ़ाता।)
नोट―बीसवीं शताब्दी को विज्ञान का युग बताया जाता है, परन्तु वैज्ञानिक अब तक ऐसा विमान नहीं बना पाएँ हैं।
(स्वामी जगदीश्वरानन्द सरस्वती)”
उस समय ऋषि-मुनियों के काल में ऐसे-ऐसे आविष्कार थे जिनकी नास्तिक कल्पना भी नहीं कर सकते। क्या आजकल वैज्ञानिक पुष्पक विमान जैसा आविष्कार कर लेंगे। कदापि नहीं। फिर नास्तिक क्यों वैज्ञानिकों की दुहाई देते हैं और ये क्यों नहीं मानते कि समस्त ज्ञान-विज्ञान के स्रोत वेद हैं। (इस विषय में एक लेख है मेरे पास―”प्राचीन भारत में विज्ञान की उज्ज्वल परम्परा” वह अवश्य पढ़ें) ।

प्रश्न 9. अष्टाङ्ग योग द्वारा लाखों योगियों ने उस सृष्टिकर्त्ता का साक्षात्कार किया है। ऋषि ब्रह्मा से लेकर जैमिनी तक अनेकों ऋषि-मुनि तथा राजा-महाराजा भी ईश्वर-उपासना किया करते थे और आज भी अनेकों लोगों की उस परम चेतन सत्ता में श्रद्धा है। वेद-शास्त्रों में भी मनुष्य का प्रथम लक्ष्य ईश्वर-प्राप्ति ही है। प्राचीनकाल में सभी ऋषि-मुनि, योगी, महापुरुष और सन्त लोग ईश्वर में अटूट श्रद्धा रखते थे तथा बिना सन्ध्योपासना किये भोजन भी नहीं करते थे। एक से बढ़कर ब्रह्मज्ञानी थे। उन लोगों वेद-शास्त्रों के अध्ययन से यही निचोड़ निकाला कि बिना ईश्वर-भक्ति के हमारा कल्याण नहीं हो सकता। और घण्टों तक समाधि लगाकर उस ईश्वर का साक्षात्कार किया करते थे और उस परमसत्ता की भक्ति से मिलनेवाले आनन्द में लीन रहते थे। वाकई जो ईश्वर-उपासना से आनन्द मिलता है, उसका वर्णन नहीं किया जा सकता। तो जब करोड़ों, अरबों लोगों (ईश्वर-भक्तों ) की उस परम चेतनसत्ता में श्रद्धा है तो कुछ तथाकथित नास्तिक कैसे ईश्वर की सत्ता को नकार सकते हैं या उनके न मानने से ईश्वर की सत्ता नहीं होगी ? क्या ये करोड़ों-अरबों (ईश्वर-उपासक) लोग ईश्वर-उपासना में व्यर्थ का परिश्रम कर रहे हैं/रहे थे? इसका भी नास्तिक जवाब दें।

प्रश्न 10 नास्तिक कहते हैं कि ईश्वर के बिना ब्रह्माण्ड अपने आप ही बन गया। इसका उत्तर यह है कि बिना ईश्वर के ब्रह्माण्ड अपने आप नहीं बन सकता। क्योंकि प्रकृति जड़ है और ईश्वर चेतन है। बिना चेतन सत्ता के गति दिये जड़ पदार्थ कभी भी अपने आप गति नहीं कर सकता। इसी को न्यूटन ने अपने गति के पहले नियम में कहा है―( Every thing persists in the state of rest or of uniform motion, until and unless it is compelled by some external force to change that state ―Newton’s First Law Of Motion ) तो ये चेतन का अभिप्राय ही यहाँ External Force है ।
इस बात पर नास्तिक कहते हैं― “External Force का अर्थ तो बाहरी बल है तो यहाँ पर आप चेतना का अर्थ कैसे ले सकते हो ?” इसका उत्तर यह है―”क्योंकि “बाहरी बल” किसी बल वाले के लगाए बिना संभव नहीं । तो निश्चय ही वो बल लगाने वाला मूल में चेतन ही होता है । आप एक भी उदाहरण ऐसा नहीं दे सकते जहाँ किसी जड़ पदार्थ द्वारा ही बल दिया गया हो और कोई दूसरा पदार्थ चल पड़ा हो ।